Thursday, July 08, 2010

Cloud Computing और Virtualization

एक जमाना हुआ यहाँ कुछ लिखे हुए.. आजकल Cloud Computing सीख रहा हूँ और इत्तेफाक से अभी चंद दिन पहले ही मसिजीवी जी ने कहा कि हिंदी ब्लॉग के गीक लोगों के लिए भी कुछ लिखो इस पर.. उनकी बात कुछ जम गई, और साथ ही सोचा कि इसी बहाने मुझे भी कुछ सीखने को मिल जाएगा.. अब चूंकि अभी सीख ही रहा हूँ, सो भूल-चूक कि गुंजाइश खुला रख छोड़ा है.. कहीं कुछ भटका तो आप पाठक मुझे संभाल लेना.. :)

अगर कोई Cloud Computing की बात करे और उसमे Hardware Virtualization कि बात ना आये, यह संभव ही नहीं है.. Hardware Virtualization भौतिक अभिलक्षण(Physical Characteristic) को छुपाने की तकनीक है.. इसमे अक्सर हम एक ही Hardware को विभिन्न Operating Systems के बीच एक साथ शेयर करते हैं.. अधिक जानकारी के लिए इस लिंक को आप देख सकते हैं..

अपने अब तक के व्यावसायिक अनुभव के आधार पर मैं यह मानता हूँ कि सबसे अधिक Virtual PC(VPC जो Microsoft का उत्पाद है) और Virtual Box(जो अभी Oracle का उत्पाद है, कुछ समय पहले या Sun Microsystem का उत्पाद हुआ करता था) का सर्वाधिक प्रयोग होता है.. दोनों कि ही अपनी अलग खूबियां है.. इन दोनों के बीच का कुछ अंतर इस पोस्ट में और कुछ आने वाले अगले पोस्ट में बताता हूँ.. इन दोनों का ही प्रयोग करते हुए आप एक साथ, एक ही Hardware का प्रयोग करते हुए, अलग-अलग Operating System पर काम कर सकते हैं.. आम तौर पर Tester द्वारा इसका प्रयोग बहुतायत में होता है..

आज जाने Virtual Box के बारे में..

Virtual Box :

1. सबसे पहले आप इसे इस लिंक पर जाकर डाउनलोड कर लें..

2. Virtual Box को खोले.. आपको "New" नाम का बटन दिखेगा.. उसे दबाने से एक Installation Wizard खुलेगा, जहाँ आपसे यह पूछा जाएगा कि आप कौन सी कंपनी का और कौन सा ऑपरेटिंग सिस्टम को इंस्टाल करना चाहते हैं? यह एक प्रकार से इसकी खूबी है.. VPC(Virtual PC) में आपको सिर्फ और सिर्फ माइक्रोसाफ्ट से सम्बंधित विकल्प ही उपलब्ध रहता है.. अगर कोई दूसरा ऑपरेटिंग सिस्टम प्रयोग में लाना हो तो "Others" का विकल्प भी दोनों ही साफ्टवेयर में उपलब्ध है..



मैं यहाँ Microsoft Windows XP चुन रहा हूँ..

3. अब आगे बढ़ने पर आपको अपने नए ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए RAM का आकार चुनने के लिए कहा जाएगा.. अब यहाँ इस जगह VPC बाजी मार ले जाता है.. Virtual Box में आप अधिकतम 1500 MB RAM का ही चुनाव कर सकते हैं, जबकि VPC में आपसे यह आपके पूरे RAM का आकार दिखा कर पूछता है कि आप अपने RAM के कितने हिस्से का प्रयोग करना चाहते हैं.. उदहारण के तौर पर, अगर आपके कम्प्युटर में 4GB का RAM लगा है, जिसमें से आप 2GB RAM अपने नए ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए सुरक्षित रखना चाहते हैं तो यह Virtual Box में संभव नहीं है मगर यही काम आप VPC में आराम से कर सकते हैं..



मैंने यहाँ 512 MB का चुनाव किया है..

4. अब यह आपसे यह पूछेगा कि आप अपने हार्ड डिस्क के मेमोरी में से कितना मेमोरी इसके लिए देना चाहेंगे? यह आप पर निर्भर करता है कि आप कितना मेमोरी देते हैं.. Virtual Box कि अधिकतम सीमा 2TB(1 Tera Byte = 1024 GB) तक ही है.. मगर VPC में आप जितना चाहे उतने तक जाता है, बस आपके पास उतना मेमोरी का हार्ड डिस्क होना चाहिए.. मगर Virtual Box कि एक खूबी VPC पर भारी पड़ती है.. Virtual Box में Dynamically Expanding Storage का विकल्प उपलब्ध है जो VPC में नहीं है.. इस सुविधा में आपका ऑपरेटिंग सिस्टम में जितना माल भरेंगे, यह उतना ही मेमोरी आपके हार्ड डिस्क में लेगा.. हाँ, मगर अधिकतम सीमा आपको ही तय करने होंगे..



यह एक फाइल बनाएगा जिसका एक्सटेंशन .VDI(Virtual Disk Image) रहेगा..

5. अब अगले पर क्लिक करने पर आपको यह Windows XP इंस्टाल करने को तैयार मिलेगा..



अब सिर्फ आपको CD Drive में Windows XP का बूटेबल CD डालना है.. फिर Virtual Box में से अपने नए बनाये गए Instance को सेलेक्ट करके "Start" बटन पर क्लिक कर देना है..

चलते-चलते: मेरे द्वारा बनाये गए एक बेकार से कार्टून को भी देखते जाएँ.. यह कल्पना है आज से कुछ वर्ष बाद का :) :


4 comments:

Pankaj Upadhyay (पंकज उपाध्याय) said...

cloud computing वो कम्प्यूटिग है जो कही दूर बादलो के पीछे होती है अर्थात हमे पता ही नही होता कि कम्प्यूटिग किस स्थान, किस हार्ड्वेयर य किस मशीन पर हो रही है.. मसलन तुम्हारा कार्टून उसे बडे सलीके से बयान कर रहा है कि आने वाले सालो मे लोगो के पास सिर्फ़ कोई डिवाईस होगी अप्लिकेशन को एक्सेस करने के लिये.. और रीयल हार्डवेयर रखने वाले अमीर माने जायेगे... वर्चुलाईजेशन मे मुझे सिर्फ़ और सिर्फ़ VMware का ही नाम पता था.. Virtual Box के बारे मे जानना अच्छा लगा..

तुम्हारा कार्टून इस पूरी पोस्ट को बडी अच्छी तरीक से एन्ड करता है.. :) जबरदस्त

प्रवीण पाण्डेय said...

लीजिये, आपका यह भी ब्लॉग है, पता ही नहीं था । कम्प्यूटर तन्तु जागृत करते हैं ।

L.Goswami said...

कार्टून पर :-)
धीरे धीरे हम विज्ञान कथाओं में वर्णित विश्व की ओर बढ़ रहे हैं.

हिमान्शु मोहन said...

अब पहली बार लगा है कि ये आदमी पीडी है, वर्ना तो प्रशान्त 'प्रियदर्शी' ही जमता था। अब कुछ हार्ड, कुछ वर्चुअल, कुछ क्लाउड…
वैसे भी - हो सकता है कि आने वाले समय में बारिश से ज़्यादा कम्प्यूटिंग के लिए ही लोग क्लाउड को पहचानें - जैसे आज माउस को।
बहुत अच्छा और सलीके से समझाया आपने विषय को - जिससे पता चलता है कि ख़ुद भी समझते हो - ठीक से।
:-)