Tuesday, April 28, 2009

शैडो रिसोर्स या बिलेबल - एक साफ्टवेयर प्रोफेशनल की व्यथा

आपसे आई.टी.कंपनियों कि सच्चाई की चर्चा करने से पहले मैं आपको आई.टी. प्रोफेशन में प्रयोग में आने वाले इन दो शब्दों कि व्याख्या कर दूं..

बिलेबल रिसोर्स - एक ऐसा कर्मचारी जिसका परिचय क्लाइंट के सामने दिया गया हो और जिसके बारे में क्लाइंट जानता हो कि यह महाशय मेरे लिये काम करते हैं.. क्लाइंट के साथ सारी डील इसी आधार पर होता है कि कितने लोग उसके लिये काम करते हैं और कितने दिनों तक करते रहेंगे..

शैडो रिसोर्स - एक ऐसा कर्मचारी जिसका परिचय क्लाइंट के सामने नहीं दिया गया हो, और वह परदे के पीछे रहकर भी क्लाइंट के लिये काम करता हो..

एक उदाहरण के साथ समझते हैं, इससे कंपनी को फायदा यह होता है कि वह क्लाइंट को दिखाती है कि 3 लोग मिलकर 4 लोगों का काम कर रही है.. जबकी असल में होता यह है कि 3 लोगों को तो क्लाइंट के सामने रखा जाता है और 2 लोग शैडो बनकर काम करते हैं.. मतलब 5 लोग मिलकर 4 लोगों का काम करती होती है.. जबकी कंपनी अपने कर्मचारी को जरूरत से ज्यादा कार्य में निपुण दिखा कर क्लाइंट से अच्छा सौदा करते हैं और बिलकुल नये और तुरत कालेज से पास होकर आये लड़के/लड़कियों को शैडो बना कर, उन्हें बहुत कम पैसे देकर, उनसे भी बिलेबल रिसोर्स जितना ही या कहें तो उससे ज्यादा ही काम लेते हैं..

चलिये शैडो रिसोर्स का एक और नियम बताता हूं.. आमतौर पर हर प्रोजेक्ट और हर टीम में एक शैडो रिसोर्स होता है और यह बात क्लाइंट को भी पता होता है.. और शैडो रिसोर्स उसी को बनाया जाता है जिसके पास अनुभव कम हो और काम करने की क्षमता भी कम ही हो.. अब अगर कंपनी के नियम के मुताबिक देखेंगे तो शैडो रिसोर्स तभी काम करता है जब असली रिसोर्स छुट्टी पर होता है..

अब इसे ऐसे देखते हैं.. एक बिलेबल रिसोर्स पहले दिन ऑफिस आया और अप्ना काम आधा करके आधा अगले दिन के लिये छोड़ दिया.. अगले दिन वह बीमार हो गया और उसने छुट्टी ले ली.. अब अगले दिन शैडो रिसोर्स को वह आधा काम खत्म करना होगा.. अब ऐसे में, एक आधा-अधूरा काम को उसे समझने में ही अधिक समय निकल जाता है और यह नब्बे प्रतिशत संभव है कि वह उस दिन उस काम को खत्म नहीं कर सकता है.. और अगर वह उसे खत्म नहीं करता है तो प्रबंधन का दबाव भी झेलना होता है, जो मेरे हिसाब से कहीं से भी सही नहीं है.. शैडो रिसोर्स हमेशा ही बेचारों सी हालत में रहता है..

मैं खुद भी इसका भुक्तभोगी रह चुका हूं.. यह लेख मैंने मंदी को ध्यान में रखकर नहीं लिखा गया है.. ऐसा हमेशा चलता रहता है, चाहे मंदी हो या ना हो..

3 comments:

लवली कुमारी / Lovely kumari said...

आजकल आप यहाँ लिख रहे हैं वाह !!

Anil said...

भारत में सरकारी नौकरी करने वालों को यह लेख पढ़ने की आवश्यकता है।

अनिल कान्त : said...

haan bhai baat to tumne sahi kahi ...uff ye software field !!