Thursday, January 03, 2008

ई-मेल सेवा तरह-तरह के

आज मैं लेकर आया हूं तरह-तरह के ई-मेल सेवाओं के बारे में। ऐसे तो कई तरह के ई-मेल सेवा होती है और उन सबके बारे में एक ही पोस्ट में लिखना उचित नहीं होगा सो आज मैं बस तीन मुख्य सेवाओं के बारे में ही बातें करूंगा।

वेब आधारित ई-मेल
वेब आधारित ई-मेल में हम अपना ई-मेल वेब ब्राउसर की सहायता से देखते हैं। इसमें हम अपनी चिट्ठी वेब ब्राउसर से ही प्राप्त करते हैं और उसी से भेजते भी हैं।

POP3 ई-मेल सेवा
POP का पूरा नाम पोस्ट आफिस प्रोटोकौल होता है। POP3 ई-मेल सेवा में हमारा ई-मेल किसी रिमोट सर्वर में जाकर सुरक्षित हो जाता है। हमलोग उस सर्वर से किसी भी समय जुड़ कर अपना ई-मेल डाउनलोड कर सकते हैं। ऐसा करने के लिये हम जिस साफ्टवेयर का प्रयोग करते हैं उसे हम ई-मेल क्लाइंट साफ्टवेयर कहते हैं। आजकल मुख्य तौर पर LOTUS NOTES और Outlok प्रयोग में लाया जाता है।

IMAP ई-मेल सेवा
IMAP ई-मेल सेवा हमें बहुत ही नियंत्रित ढंग से सेवा प्रदत्त करता है। IMAP इ-मेल भी POP3 की तरह ही काम करता है मगर IMAP ई-मेल के द्वारा हम किसी खास ई-मेल को अलग से डाउनलोड भी कर सकते हैं। IMAP ई-मेल में हम अपने मेल का विषय देख सकते हैं और जिस मेल की हमें जरूरत होगी बस उसे ही हम डाउनलोड कर सकते हैं। IMAP हमें इसका अधिकार देता है कि हम अपने मेल फोल्डर और लोकल कंप्यूटर को संकालन(Synchronize) कर सकें। इसका फायदा यह होता है कि हम जहां कहीं से भी अपने इ-मेल को लागइन करते हैं, हमें हमेशा एक जैसा ही सेटिंग दिखाई देता है।

3 comments:

अनुनाद सिंह said...

अच्छी और उपयोगी जानकारी!

Vivek Rastogi said...

बहुत अच्छे ।

शास्त्री जे सी फिलिप् said...

इस तरह के लेखों के द्वारा आप हिन्दी चिट्ठाकारों की बडी मदद कर रहे है !! लिखते रहें!